Pages

Tuesday, October 6, 2009

प्यार करें या न करें


प्यार करें या न करें (टु लव आर नॉट टु लव )...विलियम शेक्सपियर ने जब इस लाइन का इस्तेमाल अपने एक उपन्यास में किया था तो उन्हें भी शायद यह उम्मीद नहीं रही होगी कि कई सौ साल बाद दुनिया में इस पर बहस शुरू हो जाएगी। प्यार की नई परिभाषाएं गढ़ी जाएंगी और साइबर लव व कैंपस लव जैसे शब्दों का इस्तेमाल हम लोग करने लगेंगे। अगर आप गूगल में ही अंग्रेजी के इस मुहावरे को तलाशने लगें तो चौकें बिना नहीं रहेंगे कि भाई लोगों ने इस मुहावरे पर कितनी सारी सामग्री को गूगलमय कर दिया है। पर यह सब अंग्रेजी में है। हिंदी में तो सारे ही कामदेव के अवतार हैं और उन्होंने एक कामशास्त्र क्या गढ़ लिया है...उसी को अल्टीमेट रामबाण औषधि मानने लगे हैं।

...आप बहके और चौंके नहीं...कि आखिर मैं यह क्या विषय लेकर बैठ गया...जहां राजनीति पर बहस होती हो,जहां सामाजिक सरोकारों पर बहस होती हो, वहां यह क्या विषय आ गया। पर मित्रों, इस विषय पर भी बात करना बहुत जरूरी है। हुआ यह है कि पाकिस्तान की सबसे प्रतिष्ठित लाहौर यूनिवर्सिटी (Lahore University) में एक छात्रा ने यूनिवर्सिटी के आंतरिक ईमेल सिस्टम (इन्ट्रानेट) के जरिए सभी स्टूडेंट्स, प्रोफेसरों व अन्य स्टाफ को एक ईमेल भेजा, जिसका विषय यही था कि लव आर नॉट टु लव (To Love or not To Love) । उसने लिखा है कि वह यह सुन-सुन कर तंग आ चुकी है कि लाहौर यूनिवर्सिटी की छात्राओं को बाहर सोसायटी में महिलाएं अच्छी नजर से नहीं देखती और यही नहीं, उनमें से तमाम महिलाएं यहां की छात्राओं को पवित्र नहीं मानतीं यानी उनकी वर्जिनटी (Virginity) नष्ट हो चुकी है। उस छात्रा का कहना है कि जब उसने इस बात पर गौर किया तो पाया कि उन महिलाओं की बात में दम जरूर है। उसने यूनिवर्सिटी कैंपस में चुपचाप फोटो भी खींचे कि जिससे वह अपनी बात को पुष्ट कर सके। इसके बाद उस छात्रा ने उस ईमेल को अपने ब्लॉग पर भी डाल दिया और वहां इस पर बहस जारी है। ज्यादातर पुरुषवादी सोच के छात्रों ने उस छात्रा को काफी खरी-खोटी सुनाई है और उसके ईमेल को एटम बम करार दिया। एक छात्र ने कहा कि अब जब उस छात्रा की पढ़ाई पूरी होने में छह महीने बाकी रह गए हैं तो उसने यह विषय क्यों उठाया, वह पिछले चार साल से यहां क्या कर रही थी। ...यानी जितने मुंह उतनी बातें।

अब अपने यहां का रुख करते हैं। किस यूनिवर्सिटी की बात करें। दिल्ली यूनिवर्सिटी, जेएनयू, बीएचयू या फिर एएमयू। संयोग से मुझे इन सभी यूनिवर्सिटियों के कैंपस में जाने का मौका मिला। अगर हम लोग भारत के संदर्भ में उस छात्रा के ईमेल को कसौटी पर रख कर देखें तो उसकी बातें बहुत ही दकियानूसी लगेंगी। लेकिन अगर आप गहराई से विचार कर देखें तो इस मामले में गरीब देश यानी तीसरी दुनिया के देश धीरे-धीरे उस तरफ बढ़ रहे हैं जहां आज अमेरिका और इंग्लैंड जैसे देश हैं। वहां कम उम्र में लड़कियों का गर्भवती होना एक सामाजिक समस्या बन गया है और वहां परिवार नामक ढांचा बिखर गया है। बच्चों के रंग मनोविज्ञान पर किताब लिखनी वाली अमेरिकन लेखिका ब्रिटनी जॉनसन (Brittany Johnson) इन स्थितियों के लिए वहां की नेस्टी महिलाओं (Nasty Women) को इसके लिए जिम्मेदार मानती हैं। ऐसी महिलाएं जो लंपट किस्म की हैं और परिवार बनाने की तरफ उनका ध्यान नहीं रहता है। यह आदत उनमें शुरू से ही पड़ जाती है। उनका कहना है कि प्यार तो एक पवित्र चीज है लेकिन अब जिस तरह उसकी परिणिति शारीरिक संबंधों (Physical Relations) में होने लगी है...वह खतरनाक है।

हमारे देश की यूनिवर्सिटियों में भी खुलापन (Openness) है और मेरे सामने ऐसे कई उदाहरण हैं जहां दोनों तरफ से सच्चा प्यार होने के बाद शादी भी हुई लेकिन अब इधर तेजी से ऐसी घटनाएं बढ़ी हैं जब छात्राओं के साथ छल हुआ है। पुलिस का निचोड़ यह है कि ऐसी घटनाओं को ज्यादातर जान-पहचान वाले ही जन्म देते हैं। अभी ताजा-ताजा दिल्ली में कई ऐसी घटनाएं घटीं जो दहलाने वाली है। होटल मैनेजमेंट की पढ़ाई कर रही एक छात्रा जब एक महीने बाद लौटी तो उसने पुलिस में रिपोर्ट लिखा दी कि उसके सहपाठी ने एक महीने तक विभिन्न शहरों में उससे रेप किया और उसे हंसने पर मजबूर करते हुए उसकी न्यूड फोटो और विडियो बनाई। पुलिस अफसरों का कहना है कि छात्रा के आरोप की जांच होगी। लेकिन कम से कम आपके गले छात्रा का आरोप नहीं उतरा होगा। पुलिस के कुछ अफसर दबी जबान से कहते हैं कि माता-पिता शुरू से इन बातों पर ध्यान नहीं देते और खुलेपन के नाम पर आजादी दे देते हैं। इसका मतलब यह भी नहीं कि आप परिवार का तालिबानीकरण कर दें लेकिन किसी न किसी मुकाम पर कुछ चीजें तो दुरुस्त करने की जरूरत है ही।

हमारी शिक्षा व्यवस्था के पैरोकारों ने शुरू में स्कूल के लेवल से ही सेक्स एजुकेशन (Sex Education) देने की बात को काफी हवा दी और उतना ही उसका मुखर विरोध भी हुआ। इन दोनों के बीच में यह प्रश्न अनुतरित ही रहा कि क्या हमारे स्कूली स्टूडेंट्स को सेक्स एजुकेशन की जरूरत है। लेकिन न तो किसी समाजशास्त्री ने इस पर आगे बढ़कर अध्ययन की जरूरत बताई और न हमारे नेताओं ने इस पर रिसर्च कराने की बात कही। चलिए मान लेते हैं कि इसमें रिस्क है, पर हम लोग यह तो कर ही सकते थे कि स्कूल लेवल से मॉरल एजुकेशन (Moral Education) जैसी कोई चीज शुरू करते। तमाम ईसाई मिशनरी के स्कूलों में इसे पिछले कुछ सालों में शुरू किया गया है लेकिन सरकारी स्कूलों में तो जब स्पोर्ट्स के लिए टीचर नहीं होते तो भला मॉरल एजुकेशन के लिए कहां से टीचर रखे जाएंगे। यह मान लीजिए कि अपने देश के भी कॉलेजों और यूनिवर्सिटियों में लाहौर यूनिवर्सिटी के मुकाबले माहौल कम खराब नहीं है। अभी दिल्ली के ही कॉलेजों और जेएनयू में छात्र को नंगा करके उसकी रैंगिंग (Ragging) करने की घटनाएं तो यही बताती हैं कि यह सब एक सड़ी हुई मानसिकता की देन है। इसे महज खुलेपन के नाम पर नजरंदाज करने की भूल नहीं करनी चाहिए। स्कूलों और कॉलेजों में विचारों के खुलेपन की कुछ सीमा तो तय ही करनी होगी।

इस लेख के नीचे वह खबर है जिसमें लाहौर यूनिवर्सिटी में चल रही उस बहस का जिक्र है। उस खबर को पढ़ने से आपको इस लेख का संदर्भ समझने में आसानी रहेगी।


The love lives of students at a premier educational institute in Pakistan have become the subject of a heated debate.
The campus of the elitist Lahore University of Management Sciences, which has been divided between conservative, retro-revisionists, ultra-modern, party-hopping and next-generation liberals, was witness to the debate when a woman student sent a mass email on the university's mailing system.
The unnamed student, thought to be a conservative, sent out the email saying she was fed up with on-campus indecency. The mail titled To love or not to love, has been described as a social suicide bomb by Asif Akhtar, a recipient of the mail.

The student claimed some senior students have to seek physical consolation from the members of opposite sex many times in a day on campus and in public sight. To back her claims, she provided specific examples and collected photographic evidence.

Akhtar quoted the student's email in his blog. Standing at the main entrance, a girl stands on tip of her toes and kisses a boy good bye; lying in the lawn in front of the library, a boy rolls over the girl lying down beside him and remains in this posture; sitting in the academic block, a boy constantly rubs a girls leg.....

After furnishing this evidence, the student points out that because of such behaviour, aunties spread rumours that doubt the chastity of girls studying in LUMS.

Advocating a religious, cultured and social environment at the campus, the student asked the university administration to draw out rules that outline an inter-gender code of conduct on campus.

The email has elicit strong responses on the campus. One male student responded with a I have sinned mail.

I shave twice a week and my 'painchas' (trousers) hang obstinately below my heels. I have a penchant for ties that resemble the Christian cross and my satanic dress code is causing me to stray far, far away from the straight path. During the holy month (of Ramzan), instead of attending Quranic recitals in the mosque, I was listening to the demonic sounds of Pink Floyd, the student wrote further in his email.
He blamed deviant professors for this transition, whose theories made his moral-compass go awry.

Sheikh Umer Zaheer Tajwar, another recipient of the mail, wrote in lumsdailystudent.com, Larki, you had four years to bring it up; why now? You have courageously tolerated this fiesta, why are you pulling the plug on it when you have six months left?

2 comments:

प्रतिमा said...

आपने बिल्कुल सही कहा मै आपकी बात से सहमत हूँ, यदि सेक्स शिक्षा सही समय पर दी जाए तो मुझे नहीं लगता की इसमें कोई खराबी है ज्यादा न सही लेकिन बच्चों के मानसिक स्तर को देखते हुए और उनके आयु वर्ग को ध्यान में रखते हुए यदि पहल की जाए तो इसमें कोई बुराई नहीं है बस हर कोई दूसरों की पहल का इंतज़ार ही करता रह जाता है , आपने ये भी सही कहा की माहोल ख़राब होता जा रहा है और कुछ सीमा तय होनी चाहिए लेकिन मुझे लगता है की सीमा के नाम पर ऐसा न हो की छात्र - छात्राओं को इतना परेशान किया जाए की वे अपने व्यक्तित्व का विकास भी न कर सके बाकी उनकी सीमा बताने के लिए और उन्हें गलत रास्ते पे जाने से रोकने के लिए किया गया कार्य सराहनीय होगा

KVSSNRao said...

All societies have norms in various fields of life and there are deviants in all flouting the rules. If society is strong in its beliefs the actions of deviants do not spread in the society. When society in not strong in its beliefs, actions of deviants spread more. It can be in the areas of religious tolerance, illegal relations or moral conduct. We are now having a situation where people do not even know what is moral conduct? They feel what they decide to do is moral conduct. Or they think of moral of the story?