Pages

Friday, October 10, 2008

...शुक्रिया...

आखिरकार काफी जांच-पड़ताल के बाद 10 अक्टूबर 2008 को blogspot.com ने मेरे ब्लॉग का ताला खोल दिया गया। मैं यही कह सकता हूं कि शुक्रिया। हालांकि उनका यह कदम एकदम फिजूल था, जिसके लिए उन्होंने माफी भी मांगी है लेकिन माफ तो आप लोग ही करेंगे, जिन्हें इसके चलते असुविधा हुई। बहरहाल, सभी का शुक्रिया। तो, फिर एक बार जुटते हैं अपने काम में...

5 comments:

seema gupta said...

'godd luck'

regards

फ़िरदौस ख़ान said...

मुबारक हो...

तसलीम अहमद said...

achha hua.
bhai sahab apka blog lock kyon kiya gaya tha jo kholne ke baad unhen mafi bhi mangni padi.

newtone said...

Amazing. This is their double standard towards Hindi language. English websites and Blogs do lot of spamming but they not behave like this. Anyway, congrat you. It,s a good effort.

neeshoo said...

अच्छी बात है जी ।