संदेश

अक्तूबर, 2009 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

हेलोवीन...मुखौटा लगा लो मेरे भाई

चित्र
अगर आप मौजूदा युवा पीढ़ी के मुकाबले दस साल पहले के लोगों से पूछें कि भाई ये हेलोवीन (Halloween) या हालोवीन क्या बला है तो वे लोग ठीक से इसके बारे में जवाब नहीं दे पाएंगे। लेकिन मौजूदा मोबाइल मार्का पीढ़ी (Mobile Generation) को पता है कि यह हेलोवीन क्या बला है। जब आप यह लेख पढ़ रहे होंगे तो तमाम अमेरिकी लोग (American People) या तो हेलोवीन मना रहे होंगे या मनाने की तैयारी कर रहे होंगे। हेलोवीन मनाने वाले तरह-तरह के मुखौटे बाजार से खरीद कर उसे चेहरों पर लगाते हैं और फिर एक दूसरे को डराते नजर आते हैं। अपने भारत देश में जो एक मिथ है कि अगले जन्म में इंसान को भूत, चुड़ै़ल, जिन, कुत्ता, सियार और न जाने क्या-क्या बनकर अपने पापों की कीमत चुकानी पड़ती है, यह मामला भी कुछ वैसा ही है। अमेरिकी भाई लोग इसी जन्म में मुखौटे लगाकर इस करतब को कर डालते हैं। उन्हें इस चीज में इतना मजा आता है कि उन्होंने इसे त्योहार का रूप दे दिया है और अब यह उनकी संस्कृति का हिस्सा है। 31 अक्टूबर को सारे अमेरिकी (बच्चे, बूढ़े, स्त्री, पुरुष) भूत, शैतान या सियार बने नजर आते हैं। खबरों के मुताबिक अमेरिका हेलोवीन मार्के

बाल ठाकरे, मुंबई भारत नहीं है

चित्र
बाल ठाकरे आज उम्र के जिस पड़ाव पर हैं, उनसे सहानुभूति के अलावा और कुछ नहीं कहा जा सकता लेकिन इन भाई साहब ने अपने अवसान की बेला पर जिन शब्दों में मराठी मानुष (Marathi People) को अपने अखबार सामाना में गरियाया है, उसे एक बूढ़े इंसान के प्रलाप (Old Man's Agony) के अलावा और क्या कहा जा सकता है। शिवसेना को अपने जीवन के 44 साल देने वाले इस इंसान को अब याद आया है कि उसने कितनी बड़ी गलती की है। महाराष्ट्र में हाल ही में हुए विधानसभा चुनाव में शिवसेना को 44 सीटें मिली हैं और उसके सहयोगी दल बीजेपी की लुटिया डूब गई है। खैर बीजेपी तो बाकी दो राज्यों हरियाणा और अरुणाचल प्रदेश में भी बुरी तरह हार गई है। बाल ठाकरे ने फरमाया है कि मराठी लोग जिस तरह हर छोटी-छोटी समस्या का समाधान कराने शिवसेना के पास आते थे क्या वे वोट देते वक्त उन बातों को भूल गए। उन्होंने अपने भतीजे राज ठाकरे को भी गद्दार बताया है। बाल ठाकरे का प्रलाप बहुत लंबा-चौड़ा है और उसे यहां दोहराने से कोई फायदा नहीं है लेकिन शिव सेना प्रमुख के प्रलाप के बाद हम और आप इस बात पर तो गौर करना ही चाहेंगे कि इस आदमी या इस आदमी के पार्टी की यह हाल

पर्यावरण की चिंता के साथ दीपावली मुबारक

चित्र
इस दिवाली पर ब्लॉग एक्शन डे वालों ने इस दिन को पता नहीं जानबूझकर या अनजाने में पर्यावरण (Enviornment) से जोड़ दिया है। यानी इन दो दिनों में हम लोग पर्यावरण को लेकर संकल्प लें। यह संदेश इतने जोर-शोर से पहुंचाना है कि इस सिलसिले में दुनिया के तमाम देशों की जो बैठक हो रही है, उसमें ब्लॉगर्स (Bloggers) का भी एक प्रेशर ग्रुप (Pressure Group) मौजूद रहे। आप मेरे ब्लॉग की दाईं तरफ ऊपर की ओर जो चीज देख रहे हैं वही ब्लॉग एक्शन डे (Blog Action Day) का निशान और लिंक है। मैं और मेरे जैसे तमाम लोग इस महती कार्य में शामिल हैं लेकिन मैंने जानबूझकर भाषा के रूप में हिंदी का चयन किया, हालांकि वहां अंग्रेजी वालों का बोलबाला है। बहरहाल, यह तो हुई उनकी कहानी लेकिन इस दिवाली पर मैं महसूस कर रहा हूं कि लोग काफी जागरुक हो गए हैं या कहिए महंगाई और मंदी (Recession) का भी असर है कि तीन दिन पहले पटाखे फोड़ने के नाम पर होने वाला शोरशराबा इस बार नहीं के बराबर है। लेकिन हम लोगों का यह त्योहार रोशनी, संपन्नता का है तो बिना पटाखे फोड़े बिना मनाने की सलाह मैं नहीं देने वाला। यह तमाम पूंजीवादी देशों (Capitalist Countri

अशांति फैलाओ और नोबल पुरस्कार पाओ

चित्र
अमेरिकी राष्ट्रपति बराक हुसैन ओबामा को नोबल पुरस्कार की खबर कुछ भारतीय अखबारों के लिए लीड थी तो दूसरी तरफ कुछ अमेरिकी अखबारों में यह छप रहा था कि क्या यह आदमी नोबल पुरस्कार का हकदार है। राष्ट्रपति की कुर्सी संभाले इस आदमी को चंद महीने ही हुए हैं और किस आधार पर इसे नोबल पुरस्कार वालों ने शांति का मसीहा मान लिया। हालांकि कुछ भारतीय अखबारों ने सवाल उठाया कि क्या महात्मा गांधी इस पुरस्कार के हकदार नहीं थे जिन्होंने अहिंसा के बल पर अपने आंदोलन को कामयाब बनाया। लेकिन गांधी जी को इस पुरस्कार के देने में एक नियम आड़े आ गया...कि नोबल पुरस्कार कमिटी सिर्फ उन्हीं लोगों को इसके लिए चुनती है जो जिंदा हैं। यानी जो मर चुके हैं उनके कार्यों का मूल्यांकन संभव नहीं है। यह अजीबोगरीब नियम हैं और दुनिया में जितने भी पुरस्कार दिए जाते हैं उनमें इस तरह के नियम नहीं आड़े आते। लेकिन हम लोग क्या कर सकते हैं...पूंजीवादी देश अपनी शर्तों पर कर्ज देते हैं और अपनी ही शर्तों पर पुरस्कार भी देते हैं। नोबल के लिए यह जरूरी है कि आपका जुड़ाव अमेरिका या यूरोप की किसी यूनिवर्सिटी या संस्था से जरूर हो नहीं तो आपके काम को

प्यार करें या न करें

चित्र
प्यार करें या न करें (टु लव आर नॉट टु लव )...विलियम शेक्सपियर ने जब इस लाइन का इस्तेमाल अपने एक उपन्यास में किया था तो उन्हें भी शायद यह उम्मीद नहीं रही होगी कि कई सौ साल बाद दुनिया में इस पर बहस शुरू हो जाएगी। प्यार की नई परिभाषाएं गढ़ी जाएंगी और साइबर लव व कैंपस लव जैसे शब्दों का इस्तेमाल हम लोग करने लगेंगे। अगर आप गूगल में ही अंग्रेजी के इस मुहावरे को तलाशने लगें तो चौकें बिना नहीं रहेंगे कि भाई लोगों ने इस मुहावरे पर कितनी सारी सामग्री को गूगलमय कर दिया है। पर यह सब अंग्रेजी में है। हिंदी में तो सारे ही कामदेव के अवतार हैं और उन्होंने एक कामशास्त्र क्या गढ़ लिया है...उसी को अल्टीमेट रामबाण औषधि मानने लगे हैं। ...आप बहके और चौंके नहीं...कि आखिर मैं यह क्या विषय लेकर बैठ गया...जहां राजनीति पर बहस होती हो,जहां सामाजिक सरोकारों पर बहस होती हो, वहां यह क्या विषय आ गया। पर मित्रों, इस विषय पर भी बात करना बहुत जरूरी है। हुआ यह है कि पाकिस्तान की सबसे प्रतिष्ठित लाहौर यूनिवर्सिटी (Lahore University) में एक छात्रा ने यूनिवर्सिटी के आंतरिक ईमेल सिस्टम (इन्ट्रानेट) के जरिए सभी स्टूडेंट्स,