Videos/विडियो

हम धर्म, जाति, नाम, टोपी, दाढ़ी के नाम पर क्यों लड़ रहे हैं...या हमें लड़ाया जा रहा है...नॉट इन मॉय नेम प्रोटेस्ट में थियेटर आर्टिस्ट की कवितामय प्रस्तुति... जरूर देखें और सुनें...







यह घटना ऋषिकेष में हुई...रोंगटे खड़े हो जाएंगे...




टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गवाह भी तुम, वकील भी तुम

बहुत डरावना और उन्मादी है भारत का बहुसंख्यकवाद : यूसुफ किरमानी

हमारा डीएनए एक कैसे हो सकता है